Hindi moral stories for class 6 Ramu Kissan aur bhikhari

By | March 9, 2019

Hindi moral stories for class 6 रामू किसान और भिखारी

Hindi moral stories for class 6 – एक समय की बात है एक जंगल के किनारे एक बहुत ही बड़ी नदी थी उसी नदी के थोड़े ही दूर पर एक गांव बसा हुआ था उसी गांव में एक रामु नाम का किसान रहा करता था वह प्रतिदिन अपने खेत में जा करके अपने बैलों के साथ जुताई करता और खेत के अन्य काम करता और साथ ही साथ व दूसरों के भी काम किया करता था अपने बैलों से जिससे उसे कुछ पैसे मिल जाते थे और उसका घर का खर्चा चल जाता था

एक दिन जब वह बाजार से कुछ सब्जियां खरीद करके वापस अपने घर आ रहा था तो उसे रास्ते में एक भिखारी मिला भिखारी ने रामू से बोला बाबूजी कुछ खाने के लिए दे दो इस पर किसान ने अपनी जेब में हाथ लगाया और कुछ पैसे उसे खाने के लिए दे दिया और वापस वह अपने घर चला गया अगले दिन फिर वह जब बाजार से आ रहा था तो रास्ते में वह भिखारी उसे मिला और उसने फिर पैसे मांगे रामू ने फिर पैसे उसे दे दिए और आगे बढ़ चला ऐसा कुछ दिन चला

एक दिन जब वह बाजार से आ रहा था वह भिखारी रोज की तरह फिर उसकी तरफ अपना हाथ बढ़ाया और बोला बाबूजी कुछ खाने के लिए दे दो इस पर रामू ने अपने जेब से पैसे निकाले और उसे दे दिया और कहा कि तुम कल मेरे खेत में मिलना मैं तुम्हें बड़ा इनाम दूंगा इस बात को सुनकर के भिखारी बहुत खुश हुआ और अगले दिन सुबह रामू से भी पहले वह खेत में पहुंच गया था जब रामू अपने बैलों के साथ वहां पहुंचा उसने देखा कि भिखारी वहां पर पहले से ही खड़ा है रामू के पहुंचते ही भिखारी ने बोला कि मैं पहले से ही आ गया हूं अतः मुझे मेरा बड़ा ही नाम दीजिए

रामू ने बोला ठीक है मैं तुम्हें इनाम दूंगा लेकिन उसके लिए तुम्हें मेरा एक काम करना होगा तुम्हें मेरे बैलों से मेरे खेत की जुताई करनी होगी इस बात को सुनकर के भिखारी बहुत ही निराश हुआ और बोला कि मुझे खेत जोतना नहीं आता है अतः राम उसे खेत जोतना सिखाने लगा और ऐसा करते करते दोपहर हो गया पर फिर भी वह भिखारी खेत जोतना नहीं सीख पा रहा था इस पर रामू ने बोला कि अगर तुम खेत नहीं जोत पाओगे तो मैं तुम्हें बड़ा इनाम भी नहीं दे पाऊंगा इनाम की लालच में भिखारी पुनः कोशिश करने लगा और शाम तक खेत जोतना सिखा गया

उसने रामू का पूरा खेत जोत दिया और वह रामू के पास आया और बोला बाबूजी अब मुझे मेरा बड़ा नाम दीजिए इस पर रामू ने बोला मैंने तुम्हें पहले ही दे दिया है इस बात को सुनकर के भिखारी बोला लेकिन मुझे तो मिला ही नहीं रामू ने स्पष्ट करते हुए कहा कि देखो मैं तुम्हें प्रतिदिन पैसे दे रहा था जिसे तुम अपना एक वक्त का खाना खा पा रहे थे और भीख मांग रहे थे मैंने तुम्हें खेत जोतना सिखा दिया तुम किसी की भी बैल लेकर के किसी के भी खेत में उसका खेत जोत दोगे तो वह तुम्हें कुछ पैसे दे देगा जिसे तुम अपने दो वक्त की रोटी आराम से और इज्जत से खा पाओगे

इस बात को सुनकर के भिखारी को समझ आ गया कि रामू क्या सिखाना चाहता था और वह भिखारी उस दिन से रामू का ही बैल लेकर के रामू के खेत और अगल-बगल के खेतों को जोतने लगा जिससे रामू की भी खेती अच्छी खासी चल पड़ी और भिखारी भी अब भिखारी नहीं रहा

Moral of Hindi moral stories for class 6

इस कहानी से हमें यह शिक्षा मिलती है कि हमें किसी को भिक्षा देने से पहले यह सोचना चाहिए कि क्या हम उसे कोई ऐसी तरकीब या कुछ ऐसा उसे बता सकते हैं या सिखा सकते हैं कि उसके लिए यह पूरी जिंदगी काम आए और उसे भिखारी बन के रहना न पड़े तो वह कार्य सबसे पहले करना चाहिए

हमने इस ” Hindi moral stories for class 6 “कहानी के माध्यम से आप सभी को रोमांचित और हँसाने की कोशिश की है हम सब उमीद करते है की आप सभी को यह ” Hindi moral stories for class 6 “कहानी अच्छी लगी होगी हमारी और नई कहानियाँ पढने के लिए बेल के आइकॉन पर क्लिक करके allow करके सब्सक्राइब कर ले जिससे हम जब भी नई कहानी पोस्ट करे तो सीधे आप सभी के पास पहुच सके

इन्हें भी एक बार जरुर पढ़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *