गधों का  बोझ | Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

By | December 21, 2018

Akbar Birbal ki kahani Hindi mai – एक बार अकबर  उनका पुत्र और बीरबल एक साथ घुड़सवारी कर रहे थे और घुड़सवारी करते-करते वो लोग एक घने जंगल की तरफ निकल पड़े वहां उन्होंने बहुत सारा फल खाया शिकार किए और वापस आने लगे जब वापस आ रहे थे किसी अन्य रास्तों से होकर के
उस रास्ते में एक बहुत ही सुंदर तालाब पड़ता था अकबर उस तालाब से होकर गुजरे तो उन्होंने उस तालाब को देख कर के उस में नहाने का इच्छा जाहिर किया बीरबल ने बोला महाराज आप बिल्कुल सही सोच रहे हैं यह बहुत ही अच्छा तालाब है और इसका पानी इतना साफ है कि इसे पीने से बहुत सारे रोग दूर हो जाते हैं और आपने यह इच्छा जाहिर किया इसमें नहाने का यह अति उत्तम है आप इसमें नहा लीजिए और अपनी इच्छा की पूर्ति कर लीजिए

सबसे कीमती चीज है Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

इसको देख कर के अकबर के पुत्र ने भी इच्छा जाहिर किया कि मैं भी नहाना चाहता हूं इस तालाब में अकबर ने बोला ठीक है जैसी तुम्हारी इच्छा यह सारा राज्य हमारा ही है इसमें जहां चाहे हम जो चाहे वह कर सकते हैं तुम हमारे साथ नहा सकते हो उसके बाद अकबर और उनका पुत्र तलाब में नहाने के लिए चले गए कपड़े निकाल कर के बीरबल को दे दिया, बीरबल कपड़े लेकर के खड़े थे और अकबर और उनका पुत्र तलाब में बड़े आराम से नहा रहे थे और आनंद उठा रहे थे
जब अकबर की नजर बीरबल पर पड़ी तो उन्होंने देखा कि बीरबल बेचारा कपड़े लेकर के चुपचाप खड़ा है यह देखते हुए उन्हें मजाक करने की सूझि और उन्होंने बोला कि बीरबल अभी इस वक्त तुम्हारे ऊपर कम से कम एक गधे का भार है जो कि तुम उठा कर खड़े हुए हो
बीरबल  अकबर की बात समझ गए वह समझ गए कि महाराज हमसे मजाक कर रहे हैं और बीरबल ने मजाक का जवाब मजाक में ही दिया और बोला कि नहीं महाराज मैं एक गधे का बोझ नहीं लेकर खड़ा हूं मैं दो दो गधों का बोझ लेकर के खड़ा इस बात को सुनकर के अकबर हंसने लगे लेकिन अकबर के पुत्र को यह बात अच्छा नहीं लगा

रानी का बेशकीमती हार Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

बीरबल की बुद्धिमानी Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

पूर्वजों की देखरेख स्वर्ग मे Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

तीसरा पागल Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

पहला बड़ा पागल Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

दूसरा बड़ा पागल Akbar Birbal ki kahani Hindi mai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *